Shri Krishna Vachan in Hindi

Shri Krishna Vachan in Hindi : दोस्तों हम अक्सर यह जानते है जो मनुष्य जैसा कर्म करेगा ,परन्तु क्या आप यह जानते है की मनुष्य के द्वारा कुछ कार्य ऐसे भी होते है जो मरने के बाद भी हमारा पीछा नहीं छोड़ते है। और तो और यह कर्म ही हमारा अगला जन्म भी निर्धारित करते है।

Shri Krishna Vachan in Hindi
Shri Krishna Vachan in Hindi

वैसे गरुड़ पुराण इस सम्बन्ध में हमें विस्तार से जानकारी प्राप्त करता है ,और आज हम आपको कुछ ऐसे ही गरुड़ पुराण से लिए गये 10 कार्यो के बारे में बतायेगे जिस के आधार पर मनुष्य कई प्रकार की योनियों में जन्म लेता है।

तो दोस्तों हम गरुड़ पुराण के इन तथ्य पर नजर डालते है जो हमें बतायेगे की हम किस योनि में जन्म लेंगे ,

पहला मित्रता – Shri Krishna Vachan in Hindi

Shri Krishna Vachan in Hindi : इस संसार में मित्रता का होना बड़ा ही अच्छा माना गया है परन्तु एक सच्चा मित्र बुरा वक्त आने पर अपनी जान भी दे सकता है। परन्तु दोस्तों क्या होगा अगर आपका अपना दोस्त ही आपको ठगने लगे। वैसे गरुड़ पुराण में दोस्तों के बारे में विस्तार से बताया गया  है।

इसमें यह बताया गया है की अगर कोई मनुष्य अपनी ही मित्र से छल कपट करे तो उसे मरने के बाद नरक तो जाना ही पड़ता है परन्तु साथ ही साथ उसको पहाड़ो पर रहने वाले गिद्ध का रूप भी मिलता है। उसे मरे गिरे सड़े हुए जानवरो का माँस खाकर अपना जीवन यापन करना भी पड़ता है।

दूसरा धर्म का अपमान

Shri Krishna Vachan in Hindi : जो मनुष्य धर्म  का अपमान करते है दोस्तों आपको कई ऐसे मनुष्य भी मिलजायगे जो अपने धर्म के साथ साथ दूसरे के धर्म का भी उतना ही सम्मान करते है जितना अपने धर्म का ,और वही कुछ लोग ऐसे भी होते है। जिन्हे अपने धर्म से तो घृणा होती ही है,

ALSO READ  Mahabharat Ke Rahasya - महाभारत के 11 अनसुने रहस्य

 परन्तु दूसरो के धर्म से भी घृणा होती है।   ऐसे लोग गरुड़ पुराण में लिखी हुई बातो को तो नजर अंदाज करते ही है परन्तु अपनी हिन् बुद्धि का भी परिचय देते है। ऐसे मनुष्य के बारे में गरुड़ पुराण कहता है इन्हे मरने के बाद नरक तो मिलेगा ही साथ ही साथ इनका अगला जन्म कुत्ते का होगा।

यह कुत्ते अपने इसी सवभाव के कारण गली -गली में भोकते रहेंगे , लेकिन ना तो कोई इनकी बात ध्यान से सुनेगा और ना ही कोई पर्तिकिर्या करेगा। और जब इन्हे अपनी गलती का आभाष होगा तब जेक यह अपनी योनि से मुक्त होंगे।

तीसरा अपनों का त्रिसकार

Shri Krishna Vachan in Hindi : दोस्तों इस संसार में किसी भी मनुष्य का जन्म अपने सगे – सम्बन्धी के बिना अधूराहोता है ,इसमें अपने माता – पिता और गुरु का तो बड़ा ही योगदान होता है। आप तो यह भली – भाति  जानते ही है किसी भी मनुष्य को उसके शिखर पर एक गुरु ही पहुँचाता है।

जो मनुष्य अपने माता – पिता की और गुरु की अवेहलना करता है ,वह अगले जन्म में जन्म तो लेता ही , है परन्तु  अपनी माँ की कोख में ही मर जाता है।

चौथा ज्ञान को ना बाटने वाला

Shri Krishna Vachan in Hindi : दोस्तों यह तो आप भले भाति जानते ही  है,  के हमारे जीवन में ब्रम्ह्माण का कितना बड़ा योग दान है। चाहे कोई भी ब्राह्मण हो अगर मनष्य कोई कार्य करा रहा है, तो उस ब्राह्मण की  यह जिम्मेदारी है की वह उस मनष्य का कार्य

 कम दक्षणा में ही कार्य को पूरा करे।

परन्तु अगर कोई ब्राह्मण ऐसा नहीं करता है तो इस जन्म में तो उसका जीवन खराब होगा ही। और अगले जन्म में उसे बैल बनकर इस धरती पर आना ही होगा। और आजीवन उसे  कर्मो पर पछाताप करना होगा।

पांचवा चालाकी करने वाला

Shri Krishna Vachan in Hindi : इस संसार में ऐसे ना जाने कितने मनुष्य है ? जो अपनी बातो से लोगो का मन जीत लेते है , लेकिन वही ऐसे भी कई लोग है जो अपनी चालाकी से सीधे – साधे लोगो को मूर्ख बनाते रहते है। यह मनुष्य आजीवन ऐसे ही खाते रहते है ऐसे मनुष्यओ के बारे में गरुड़ पुराण में लिखा है की यह अगले जन्म में उल्लू बनते है , और अपनी चालाकी का पछाताप करते रहते है।

ALSO READ  108 भागवत गीता श्लोक हिंदी में - Bhagwat Geeta Shlok in hindi - Shrimad Bhagwat Gita

छठा अपमान करने वाला

Shri Krishna Vachan in Hindi : दोस्तों जैसे की आप सभी जानते है की हमें अपने माता -पिता का आदर करना चाहिए एक बेटा अपने माता -पिता की सेवा करता है और अपना कार्य को पूरा करता है। ठीक उसी प्रकर एक आदर्श बहू की भी यह जिम्मेदारी होती है

स्त्री अपने घर के कार्य के साथ अपने साँस और ससूर की सेवा और आदर करे। परन्तु अगर कोई स्त्री अपनी साँस या ससूर को बे वजह ही गलत बोलती है ,और उनके साथ गलत व्वहार करती है। और घर में कलेश करती है तो उसे अगले जन्म में रक्त पीने वाली जू का रूप लेना पड़ता है।

सातवां गाली देने वाला

Shri Krishna Vachan in Hindi: दोस्तों यह तो हम जानते है , सभी मनुष्य के कंठो में माँ सरस्वती का वाश होता है , किन्तु कई मनष्य गलत शब्द बोलते है और गाली देते है और छोटी छोटी बातो पर लोगो को गाली देने लगते है। और बाज नहीं आते है उल्टा बोलने से , अगले जन्म में यह बकरे के रूप में आते है इस धरती पर और किसी ना किसी कसाई के हाथों में आ जाते है।

आठवां वासना द्रस्ति वाले

Shri Krishna Vachan in Hindi : दोस्तों इस संसार में ऐसे कई मनुष्य है , जो की स्त्री को बड़े ही सम्मान के साथ देख़ते है और उनके मन में कोई भी ऐसी भावना नहीं होती है जो की  किसी भी स्त्री के मन को ठेस पहुचाये। और वह सभी स्त्रीओ से प्यार से बाते करते है।

और वही दूसरी तरफ ऐसे भी मनुष्य होते है जो की स्त्री को गलत नजरो से देखते है और स्त्रीओ से कभी भी प्यार से बाते नहीं करते है और हमेशा उन्हें गाली देकर बुलाते है और कभी कभी तो मार पीट भी कर देते है।

ALSO READ  इन घरों में दौड़ी चली आती है माँ लक्ष्मी, बस करे ये 5 उपाय - Jai Maa Laxmi

ऐसे लोगो के बारे में गरुड़ पुराण में कहा गया है की वह अगले जन्म में गधे के रूप में जन्म लेते है। और गधे के रूप में यह चाहकर भी किसी स्त्री पे गन्दी नजर नहीं डाल पाते है।

सोयाबीन चिल्ली की रेसिपी Soyaben Chilli Recipe :

नौवा गलत स्त्री

Shri Krishna Vachan in Hindi ; दोस्तों इस संसार में ऐसे कई स्त्री होती है जो की पतिव्रता होती है और उनके मन में अपने पति के आलावा किसी और का ख्याल भी नहीं आता है। परन्तु संसार की सभी स्त्रियाँ एक समान नहीं होती है , वह स्वभाव से अलग होती है।

ऐसी स्त्रियाँ विवाह के बाद भी दूसरे मनुष्य से सम्बन्ध बनाने में सामथ होती है। वैसे इनकी ऐसी ही गलती के कारण इन्हे समाज में अपमानित होना पड़ता है। परन्तु इनकी अकल तो तब सही होती है जब यह अगले जन्म में छिपकली का रूप या चमगादड़ का रूप लेकर इस पृथ्वी पर आना होता है।

दसवां जहर खा कर मरने वाले

Shri Krishna Vachan in Hindi : दोस्तों हमें शास्त्रों में यह बताया गया है की हमें मनुष्य का जन्म बड़ी ही मुश्किलों से मिलता है। लेकिन हममें से ही कुछ लोग संसार की कुछ बातों से गबरा जाते है और आत्महत्या जैसे पाप कर बैठते है। भगवान के दिये हुए इस अमूलय रूप को  रूप को खो देते है।

ऐसे लोगो के संदर्भ में गरुड़ पुराण कहता है की ऐसे लोग अगले जन्म में साँप का रूप लेते है। औरऐसे लोगो को धरती पर आके अपनी भूल सुधारनी पड़ेगी ,तब जाके  यह भगवान के दुवारा दिये गये इस रूप को समझ पाएंगे।

तो दोस्तों Shri Krishna Vachan in Hindi यह वह योनिया है जो की मनुष्य को अपने कर्म के अनुसार मिलती है इस लिए कहा जाता है की अगर इस संसार में आये हो तो अच्छे कर्म करो ताकि लोग आपको याद रखे और अच्छी योनि में जाओ। आशा करते है की आपको यह पोस्ट पसन्द आई होगी। धन्यवाद

Also Read : महाभारत के 11 अनसुने रहस्य

Tags: Shri Krishna Vachan in Hindi, krishna quotes in hindi, कृष्ण वाणी इन हिंदी

Leave a Comment